मेरा पानी मेरी विरासत योजना ~ (Mera Paani Meri Virasat Yojana) Apply Online | किसानों को मिलेगें 7000 रुपये

Mera Paani Meri Virasat Yojana Registration | Mera Paani Meri Virasat Yojana Official Website | Mera Paani Meri Virasat Yojana Portal

मेरा पानी मेरी विरासत योजना : ‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ की शुरुआत जल संरक्षण के उद्देश्य से हरियाणा के माननीय मुख़्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी के माध्यम से हुआ है। हरियाणा राज्य में लगातार हर साल लगभग 1 मीटर भू -जल स्तर में गिरावट दर्ज की गयी है जिसका प्रमुख कारण धान उत्पादन के क्षेत्र में बढ़ोतरी होना है।

इस योजना के माध्यम से हरियाणा सरकार जल  की अधिक खपत वाले धान के स्थान पर ऐसी फसलों को प्रोत्साहित करेगी जिसमे जल की कम से कम खपत हो। इस योजना के अंतर्गत भविष्य के पीढ़ियों के लिए जल- संरक्षण हेतु हरियाणा सरकार ने 1 लाख हेक्टेयर भूमि पर कम लागत वाले (जल) फसल मक्का,कपास ,बाजरा,दलहन के उत्पादन को प्रोत्साहित करने का उद्देश्य है। योजना के तहत सरकार वैकल्पिक फसलों का उत्पादन करने वाले किसानों को प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रति एकड़ रु 7000/- दिए जाएंगे।

इच्छुक व्यक्ति जो इस योजना से जुड़े तथ्य की जानकारी प्राप्त करना  चाहते है वे इस लेख को जरूर से पढ़े।

Kishan Kalyan Yojana 2020:( मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना) की सम्पूर्ण जानकारी

Mera Paani Meri Virasat Yojana

‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ क्या है ?

हरियाणा राज्य में लगातार हर साल जल का स्तर गिरता जा रहा है जिसका प्रमुख कारण लोगो का धान उत्पादन के क्षेत्र में अधिक रूचि लेना है। जिसका परिणाम हर साल एक मीटर जल का स्तर गिरता जा रहा है जो की एक गंभीर स्थिति है।इस योजना के माध्यम से हरियाणा सरकार जल  की अधिक खपत वाले धान के स्थान पर ऐसी फसलों को प्रोत्साहित करेगी जिसमे जल की कम से कम खपत हो। Mera Paani Meri Virasat Yojana Portal Haryana का उद्घाटन हरियाणा के माननीय मुख़्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी के द्वारा हुआ है।

इस योजना से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य निम्नलिखित है

  • जल संरक्षण के उद्देश्य से  Mera Pani Meri Virasat yojana की शुरुआत की गई है।
  • इस योजना के तहत जिस किसान ने अपनी कुल जमीन के 50 प्रतिशत या उससे अधिक जमीन पर  धान के बजाय मक्का/ कपास/बाजरा / दलहन / सब्जीयां इत्यादि फसल उगाई है तो उस किसान को रु  7,000/- प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन  राशि प्रदान की जाएगी।
  • जिन खण्डों का जल स्तर 35 मीटर या  उससे अधिक गहराई पर है तथा पंचायत भूमि पर धान के अतिरिक्त मक्का/ कपास/बाजरा / दलहन / सब्जीयां फसल उगाई है तो रु 7,000/- प्रति एकड़ की दर से राज्य सरकार द्वारा  ग्राम पंचायत को दी जाएगी।
  • किसानो द्वारा उत्पादित फसल मक्का की नमी को कम करने के लिए सम्बंधित मंडी में सरकार द्वारा मक्का ड्रायर उपलब्ध करवाया जायेगा।   
  • विभाग द्वारा वैकल्पित फसले-मक्का ,कपास ,बाजरा आदि का फसल बीमा भी सरकारी खर्चे पर कराया जायेगा।

योजना के अंतर्गत सम्मलित किये गए क्षेत्र

  • किसानो को राज्य के 8 खण्डो -रतिया, सिरसा, सीवन, गुहला, पीपली, ईस्माइलाबाद, बबैन तथा शाहाबाद में धान के क्षेत्र में कम-से-कम 50 प्रतिशत क्षेत्र में वैकेल्पिक फसलो -मक्का / कपास / बाजरा / दलहन / बागवानी  का उत्पादन करके विविधीकरण अपनाना होगा। ये आठ ब्लॉक धान समृद्ध क्षेत्रों में शामिल है जहाँ भूजल स्तर की गहराई 40 मीटर से अधिक है।
  • 8 खण्डो -रतिया, सिरसा, सीवन, गुहला, पीपली, ईस्माइलाबाद, बबैन तथा शाहाबाद के किसान प्रति एकड़ वित्तीय लाभ प्राप्त करने के पात्र वही किसान होंगे जो पिछले खरीफ सत्र 2019-20 के धान के क्षेत्र का 50 प्रतिशत व् अधिक विविधीकरण करेंगे।
  • वर्ष 2019 में इन आठ ब्लॉकों द्वारा कुल 2,06,000 हेक्टेयर क्षेत्रफल में धान की खेती की गई थी।
  • चुने गए 8 खण्ड में बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र जहाँ पर विविधीकरण  के अंतर्गत जहाँ फसल उगना संभव नहीं है ऐसे किसान कृषि अधिकारी से बासमती धान,डी एस आर द्वारा धान लगाने के लिए आवेदन कर सकेंगे।
  • ऐसे गाँव जहाँ पर भू- जल का स्तर 35 मीटर है वहाँ पर कृषि भूमि पर धान लगाने की अनुमति नहीं होगी। ऐसे ग्राम पंचायतो को सरकार द्वारा वित्तीय सहायता उपलब्ध कराया जायेगा।

मेरा पानी मेरी विरासत की UPDATE जानकारी

➡️ ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ योजना के अंतर्गत किसानों के बैंक खातों में जल्द ही 2,000 रुपये प्रति एकड़ की दर से पहली किस्त का भुगतान जल्द ही किया जायेगा।
➡️ मुख्य सचिव संजीव कौशल के अनुसार पहली किस्त के रूप में सरकार की ओर से कुल 10.21 लाख रुपये दिए जाएंगे।
➡️ इस योजना के तहत पहली क़िस्त की राशि राज्य के 17 जिलों में खरीफ-2020 के दौरान धान को छोड़कर कपास की फसल की बुआई करने वाले किसानों के बैंक खातों में ट्रांसफर कर दी जाएगी।
➡️ 2,000 रुपये की पहली किस्त फसल के सत्यापन के बाद शेष 5,000 रुपये फसल की पकाई के समय दिया जायेगा ।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना में लगने वाले कागजात

➡️ आधार कार्ड
➡️ पहचान पत्र
➡️ बैंक अकाउंट पासबुक
➡️ कृषि योग्य भूमि के कागज़ात
➡️ मोबाइल नंबर
➡️ पासपोर्ट साइज फोटो

Mera Paani Meri Virasat Yojana Portal Haryana का उद्देश्य

  • इस योजना  का प्रमुख उद्देश्य जल- संरक्षण है।
  • इस योजना के माध्यम से हरियाणा सरकार जल  की अधिक खपत वाले धान के स्थान पर ऐसी फसलों को प्रोत्साहित करेगी जिसमे जल की कम से कम खपत हो।
  • इस योजना के अंतर्गत भविष्य के पीढ़ियों के लिए जल- संरक्षण हेतु हरियाणा सरकार ने १ लाख हेक्टेयर भूमि पर कम लागत वाले (जल) फसल मक्का,कपास ,बाजरा,दलहन के उत्पादन को प्रोत्साहित करने का उद्देश्य है।
  • हरियाणा में अधिक जल  की मांग वाली फसलो के क्षेत्र में कमी लाना।
  • सरकार द्वारा कृषि के लिए वैकल्पिक फसलो को बढावा देना ।
  • इस योजना  के  माध्यम से संसाधनों के संरक्षण को बढावा देना।
  • इस योजना  के  द्वारा भू-जल स्तर को संतुलित  रखना।
  • धान-गेहूं चक्र की खेती से हटाकर किसान को अधिक लाभ देने वाली फसलो का विकल्प देने के लिए।

Mera Paani Meri Virasat Yojana Portal Haryana  के फायदे

  • योजना के तहत सरकार वैकल्पिक फसलों का उत्पादन करने वाले किसानों को प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रति एकड़ रु 7000/- दिए जाएंगे।
  • किसानो द्वारा उत्पादित फसल मक्का की नमी को कम करने के लिए सम्बंधित मंडी में सरकार द्वारा मक्का ड्रायर उपलब्ध करवाया जायेगा।   
  • विभाग द्वारा वैकल्पित फसल  के लिए फसल बीमा भी सरकारी खर्चे पर कराया जायेगा।
  • मक्का की फसल विविधीकरण चुनने  वाले किसानो को सुक्ष्म सिंचाई संयत्र लगाने पर कुल लागत का केवल GST ही देना होगा।
  •  मशीनों द्वारा बोआई  करने हेतु चुने हुए  खण्डों में किसानो को मक्का बोआई मशीन पर 40 प्रतिशत अनुदान हरियाणा सरकार द्वारा  दिया जाएगा।

Mera Paani Meri Virasat Yojana Registration में आवेदन करने की प्रक्रिया

हरियाणा राज्य के इच्छुक किसान जो mera paani meri virasat yojana online apply करना चाहते है वे नीचे दिए गए निर्देशित विधि को अपनाये –

  • सर्वप्रथम आवेदक  योजना की mera paani meri virasat yojana official website पर क्लिक करना होगा। 
  • Website के home pages पर आपको New Registration  के option पर क्लिक करना होगा।  Option पर क्लिक करने के बाद आपके सामने next page open हो जायेगा
  • सर्वप्रथम आवेदक  योजना की mera paani meri virasat yojana official website पर क्लिक करना होगा। 
  • Website के home pages पर आपकोNew Registration  के option पर क्लिक करना होगा।  Option पर क्लिक करने के बाद आपके सामने next page open हो जायेगा।
  • Page open होने पर आपको अपना आधार कार्ड का विवरण भरना होगा और फिर Next के बटन पर क्लिक करना होगा।  Button पर क्लिक करने के बाद आपको Former Details भरनी होगी फिर total land holding और crop details भरनी होगी।
  • सभी विवरण भरने के बाद आपको Submit के बटन पर क्लिक करना होगा।  इस तरह mera paani meri virasat yojana registration प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लिए आवेदन की प्रक्रिया कैसे करे?

  • सर्वप्रथम आवेदक  योजना की mera paani meri virasat yojana official website पर क्लिक करना होगा। 
  • Home Page पर आपको बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए विकल्प के option पर क्लिक करना होगा।  क्लिक करने के बाद  अगला पेज खुल जायेगा।
  • Page पर Former Registration के लिए के form दिखाई देगा। Form से सम्बंधित सभी विवरण भरकर सबमिट करे। इस तरह registration प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

महत्वपूर्ण लिंक

➡️ Official WebsiteClick Here
➡️ Mera Paani Meri Virasat Yojana Registration (New)Click Here
➡️ बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए विकल्पClick Here

Helpline Number

इस योजना से सबंधित किसी भी समस्या व् जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर 1800-180-2117 पर संपर्क कर सकते है।

FAQ

मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है ?

धान उत्पादन की अधिकता के कारण हरियाणा राज्य में लगातार हर साल जल का स्तर गिरता जा रहा है जिसका परिणाम हर साल एक मीटर जल का स्तर गिरता जा रहा है जो की एक गंभीर स्थिति है।इस योजना के माध्यम से हरियाणा सरकार जल की अधिक खपत वाले धान के स्थान पर ऐसी फसलों को प्रोत्साहित करेगी जिसमे जल की कम से कम खपत हो।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना में प्रोत्साहन राशि कितनी है ?

किसानों को प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रति एकड़ रु 7000/- दिए जाएंगे।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के आवेदन में कौन-2 कागजात लगते है ?

आधार कार्ड, पहचान पत्र,बैंक अकाउंट पासबुक, कृषि योग्य भूमि के कागज़ात,मोबाइल नंबर, पासपोर्ट साइज फोटो

मेरा पानी मेरी विरासत हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

इस योजना से सबंधित किसी भी समस्या व् जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर 1800-180-2117 पर संपर्क कर सकते है।

Mera Paani Meri Virasat Yojana के क्या फायदे है ?

प्रोत्साहन राशि के रूप रु 7000/-, मक्का ड्रायर,फसल बीमा , मशीन बोआई पर 40 प्रतिशत अनुदान आदि फायदे सरकार द्वारा दिया जाता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.